-->

RSCIT Book Lesson 15. आपके कंप्यूटर का प्रबंधन (RSCIT Notes of Managing your Computer) | RSCIT Hindi Notes Chapter 15.

RSCIT Book Lesson- 15. (RSCIT Notes Managing your Computer "आपके कंप्यूटर का प्रबंधन") Notes In Hindi 2021 : We Are Share Notes of RSCIT Official Book Lesson Number 15. In Hindi Language, So Read and Get High Marks In RSCIT Exam.
Rscit Book Lesson | Rscit Book Lesson Notes | Rscit Book Lesson Notes Number 15 | Rscit Book Lesson Notes In Hindi | Notes Of Rscit Book In Hindi | Rkcl New Book Notes In Hindi Lesson 15 | Rscit New Book Notes In Hindi Lesson | Notes Of Rscit Book Lesson 15 | Download Rscit Notes | Rscit Book Notes In Hindi Pdf | Lesson -15 | www.iLearnRSCIT.com

rscit book notes lesson 15, rscit lesson 15 notes, आपके कंप्यूटर का प्रबंधन, RSCIT Notes of Managing your Computer

RSCIT Book Notes Lesson- 15 in Hindi PDF File Download


अध्याय 15
आपके कंप्यूटर का प्रबंधन
15. अपने कंप्यूटर का प्रबंध करना ( Managing Your Computer )
15.1 विंडोज़ के लिए यजरलॉगिन बनाना ( Creating a User Login for Windows )
विंडोज़ 10 ( Windows 10) आपको अपने कंप्यटर पर कई यूजर अकाउंटस ( User Account बनाने की सविधा देता है । इससे आप हर उपयोगकर्ता ( User ) का अपना अलग एक विशिष्ट सेटिंग एवं प्रेफेरेंस ( unique settings and preferences ) वाला एक यूजर अकाउंट बना सकते है । इसकी सहायता से हर एक यूजर अपना अलग डेस्कटॉप बैकग्राउंड या स्क्रीन सेवर ( screen saver ) रख सकता है । यूजर अकाउंट्स ( User Account ) सुनिश्चित करते है कि एक यूजर कौन कौनसी फाइल एवं प्रोग्राम एक्सेस कर सकते है और किस तरह के changes उनको कंप्यूटर पर allowed होते है ।
आप चाहे तो आपके कंप्यूटर पर सिर्फ एक यूजर अकाउंट से भी काम चल सकता है लेकिन हर यूजर के लिए एक अलगसे यूजर अकाउंट होने के कई फायदे है । हर यूजर का एक अलग से अकाउंट होने से हर यजर अपने तरीके से अपना डेस्कटॉप , फाइल्स एवं फ़ोल्डर्स को organize कर सकता है , अपनी पसंद का डेस्कटॉप बैकग्राउंड चुन सकता है , इत्यादि । इसके अतिरिक्त , माता - पिता भी अपने बच्चो के अकाउंट के लिए अभिभावकीय नियंत्रण ( Parental Control ) निर्धारित ( Set ) करसकते है ।
यूजर अकाउंट दो प्रकार के होते है एवं आपको नए उपयोगकर्ता ( New User ) के अकाउंट बनाने से पहले दो प्रकार के अकाउंट को समझना ( Understand ) महत्वपूर्ण ( Important ) है :
स्टैण्डर्ड ( Standard ) : Standard Account एक बेसिक यूजर अकाउंट है जो आप अपने सामान्य , रोज़मर्रा के कार्य ( Daily Work ) के लिए उपयोग में ले सकते है । एक Standard Account यूजर , कुछ भी साधारण कार्य कंप्यूटर पर कर सकते है जैसे कि सॉफ़्टवेयर चलाना या अपने डेस्कटॉप को निजी ( Personalizing ) करना । इसके अलावा , Standard Accounts पर अभिभावकीय नियंत्रण ( Parental Control ) भी रखा जा सकता है ।
एडमिनिस्ट्रेटर ( Administrator ) : Administrator Account एक विशेष यूजर अकाउंट होता है जिसका उपयोग कंप्यूटर की सिस्टम सेटिंग ( System Setting ) में परिवर्तन ( Changes ) करने या अन्य लोगों के खातों के प्रबंधन ( Managing ) में किया जाता है । Administrator Account में आप अपने कंप्यूटर में कुछ भी परिवर्तन ( change ) कर सकते है | प्रत्येक कंप्यूटर में कम से कम एक Administrator Account जरूर होता है ।
अपने उपयोगकर्ताखाते में जाने के लिए ( To go to your User Account ) :
1. पहले आप कंट्रोल पैनल ( Control Panel ) पर जाएं।
2. " खाता प्रकार परिवर्तित करें " ( Change Account Type ) पर क्लिक करें
या ( or )
  • सेटिंग ऐप ( Setting App ) पर जाएं
  • " Accounts " पर क्लिक करें
Account Pane दिखाई देगा । आप सभी यूजर अकाउंट्स ( All User Account ) यहां देखेंगे , और आप ज्यादा यूजर अकाउंट add कर सकते हैं या मौजूदा यूजर एकाउंट्स को मैनेज कर सकते है। नए उपयोगकर्ता खाते ( New user account ) जोड़ने के लिए परिवार और अन्य उपयोगकर्ताओं ( Family and other users ) पर क्लिक करे।
एक नया खाता ( New Account ) बनाने के लिए :
  1. अकाउंट पैन ( Account Pane ) से , परिवार और अन्य उपयोगकर्ताओं ( Family & Other Users ) पर क्लिक करें ।
  2. किसी और को इस पीसी में जोड़ें ( Add Someone Else to this PC ) का चयन करें ।
  3. पष्ठ के निचले भाग पर , चुनें कि मेरे पास इस व्यक्ति की साइन - इन जानकारी नहीं ( I do not have Sign In information of this user ) है ।
  4. अगले पृष्ठ के निचले भाग पर , " Add User without Microsoft Account " चुनें ।
  5. नए खाते के लिए एक नाम दर्ज करें । यदि आप चाहते हैं कि इस व्यक्ति को किसी पासवर्ड ( Password ) से प्रवेश मिले तो पासवर्ड दर्ज करें और उसे सत्यापित ( Verify ) करें , पासवर्ड संकेत ( Hint ) जोड़ें , फिर अगला चुनें ।
  6. समाप्त ( Finish ) चुनें ।
एक बार जब आप एक नया खाता बना लगे. तो आप सेटिंग एप्प ( Setting app ) के द्वारा खाते की सेटिंग में पासवर्ड जोड़ना या अन्य बदलाव कर सकते है इसी तरह पिक्चर (Picture ) साइन - इन विकल्प ( Option ) आदि भी यूजर अकाउंट के लिए बदले जा सकते है।
15.2 रिस्टोर पॉइंट सेट करना ( Setting up a Restore Point )
सिस्टम पुनस्थापना ( System Restore ) माइक्रोसॉफ्ट विंडोज में एक विशेषता ( feature ) है जो उपयोगकर्ता अपने कम्प्यूटर प्रणाली ( System Malfunctions ) की खराबी या कंप्यूटर क्रैश होने कि स्थिति में अपने कंप्यूटर की रिकवरी के लिए इस्तेमाल का सकता है । सिस्टम रिस्टोर आपको आपके कंप्यूटर की पुरानी स्थिति ( सिस्टम फाइलों , स्थापित ( Installed ) एप्लीकेशन ) , विंडोज रजिस्ट्री ( Windows Registry ) और सिस्टम सेटिंग्स सहित ) को वापस प्राप्त करने की इजाजत ( Allow ) देता है ।
15.2.1 सिस्टम रिस्टोर इनेबल करना ( Enable System Restore )
  1. प्रारंभ मेनू ( Start Menu ) पर जाएं या खोज बॉक्स ( Search Box ) पर क्लिक करें और टाइप करें " Create a Restore Point " और इंटर पर ( Enter Key ) बटन दबाकर लिगेसी ( Legacy ) " सिस्टम सुरक्षा ( System Protection ) " पेज खोलकर फीचर्स कॉन्फ़िगर ( Configure ) करें ।
  2. " System Protection " टैब के अंतर्गत " System Properties " म सुनिश्चित ( Make Sure ) करें कि आपका विंडोज ड्राइव ( आमतौर पर C Drive ) की सुरक्षा सुनिश्चित हो ।
  3. अगर सुरक्षा ( Protection ) बंद कर दिया गया है तो Create बटन उपलब्ध नहीं होगा। अगला कदम ( Step ) है जी आप जिसमे इंस्टॉल किया हुआ उस ड्राइव ( Drive ) का चयन करें और कॉन्फ़िगर बटन ( Configure Button ) पर क्लिक करें।
  4. ''Restore Setting'' के अंदर ''Turn on System Protection'' का चयन कर इनेबल ( Enable ) करना सुनिचित ( Confirm )   करें।
  5. अपनी प्राथमिकताओं ( Preferences ) को Configure करने के बाद , " Apply " पर क्लिक करें और फिर ok करें , आप देखेंगे कि सिस्टम ड्राइव ( System Drive ) के तहत अबसुरक्षाचालू ( Protection Turned on ) है ।
15.2.2 एक सिस्टम रिस्टोर पॉइंट बनाएं ( Create a System Restore Point )
 एक रिस्टोर पॉइंट ( Restore Point ) को मैन्युअल ( Manually ) रूप से कॉन्फ़िगर ( Configure ) करने के लिए , Create बटन पर क्लिक करें , और रिस्टोर पॉइंट ( Restore Point ) को पहचानने में आपकी मदद करने के लिए वर्णन ( Description ) लिखें ( जैसे की , X ऐप को इंस्टॉल ( Install ) करने से पहले सिस्टम रिस्टोर पॉइंट ) फिर प्रक्रिया ( Process ) को पूरा करने के लिए Create बटन पर क्लिक करें ( रिस्टोर पॉइंट क्रिएशन ( Restore Point Creation ) काफी फ़ास्ट ( Fast ) है , इसे एक मिनट से अधिक समय नहीं लेना चाहिए ।
15.2.3 अपने पीसी को रिस्टोर करना ( Restoring your PC )
यदि किसी समय आप किसी समस्या ( Issue ) का सामना करते हैं तो बैकअप ( Back up ) या " Reset This PC " की सुविधा Windows 10 में उपयोग करने से पहले आप System Restore Point का उपयोग कर सकते हैं , जो तेज ( Fast ) और आसान ( Easy ) है । ।
वापस जाकर अपने कंप्यूटर को ठीक करने के लिए अवांछित ( Unwanted ) सिस्टम परिवर्तन ( Changes ) को पूर्ववत ( Previous ) करने के लिए निम्न कार्य करें : 
  1. प्रारंभ मेनू ( Start Menu ) पर जाएं या सर्च बॉक्स ( Search Box ) पर क्लिक करें और टाइप ( Type ) करें " Create a System Restore Point " और फीचर ( Feature ) को कॉन्फ़िगर ( Configure ) करने के लिए legacy " System Security " सेटिंग पृष्ठ ( Setting Page ) खोलने के लिए दर्ज करें ।
  2. सिस्टम रिस्टोर बटन ( System Restore Button ) पर क्लिक करें और Next क्लिक करें ।
  3. आपको तिथि ( Date ) , वर्णन ( Description ) , और अधिक महत्वपूर्ण ( More importantly ) रूप से उपलब्ध सभी उपलब्ध रिस्टोर पॉइंट ( Restore Point ) दिखाए जाएंगे . इसी के साथ आप यह भी देख सकेंगे कि यह रिस्टोर पॉइंट मैन्युअल ( Manual ) रूप से बनाया गया था या सिस्टम ( System ) द्वारा
  4. जैसा कि आप एक रिस्टोर पॉइंट ( Restore Point ) का चयन करते हैं . आप अंतिम रिस्टोर पाइट ( Restore Point के बाद से इंस्टॉल ( Install ) किए गए एप्लिकेशन ( Application ) को देखने के लिए " Scan for affected programmes " पर क्लिक कर सकते हैं , जो रिस्टोर प्रक्रिया के दौरान हटा दिया जाएगा । फिर विज़ार्ड ( Wizard ) पर वापस जाने के लिए रद्द ( Cancel ) करें पर क्लिक करें ।
  5. रिस्टोर प्रक्रिया ( Process ) को पुनः शुरू करनी के लिए Next क्लिक करें और फिर समाप्त ( Finish ) पर क्लिक करें। 

  6. एक बार प्रक्रिया ( Process ) पूरी हो जाने पर , आप उस समय में अपने सिस्टम की वापसी कर लेंगे , जब आपका सिस्टम सही ढंग से काम कर रहा था ।
15.3 एक प्रोग्राम इनस्टॉल / अनइंस्टॉल करना ( Installing / Uninstalling a Program )आप विंडोज 10 में शामिल प्रोग्राम ( Programme ) और फीचर ( Features ) के साथ बहुत कुछ करने में सक्षम ( Capable ) हैं , लेकिन इसके बावजूद भी आप अन्य प्रोग्राम ( 0 am ) को इनस्टॉल कर सकते हैं । विंडोज 10 में , आम तौर पर प्रोग्राम सीडी ( CD ) या डीवीडी ( DVD ) से इंटरनेट ( Internet ) से या विंडोज स्टोर ( Windows Store ) से इंस्टॉल ( Install ) किए जाते हैं । यदि आप अपने कंप्यूटर पर पहले से इन्सटाल्ड प्रोग्राम को अनइनस्टॉल ( Uninstall ) या परिवर्तन ( Modify ) करना चाहते हैं , तो आप इसे कण्ट्रोल पैनल ( Control panel ) या सेटिंग ऐप ( Setting App ) के जरिए कर सकते हैं।
15.3.1 सीडीयाडीवीडी से इनस्टॉल करना ( Installing from a CD or DVD  )
अपने कंप्यूटर में डिस्क डालें ( Insert Disc ) , और फिर अपनी स्क्रीन पर दिए । गए निर्देशों ( Instruction ) का पालन ( Follow ) करें । यदि आपको एक Use Auto Play for all media and devices एडमिनिस्ट्रेटर ( Administrator ) पासवर्ड या पुष्टिकरण ( Confirmation ) के लिए संकेत ( Hint ) दिया जाता है , तो पासवर्ड टाइप करें या पुष्टिकरण ( Confirmation ) प्रदान करें सीडी या डीवीडी से इन्सटाल्ड कई प्रोग्राम के लिए स्वचालित ( Automatically ) रूप से इंस्टॉलेशन विजाड ( Installation Wizard ) खोलें । इन मामलों में , ऑटो प्ले डायलाग बॉक्स ( Dialog Box ) प्रकट ( Display ) होता है और आप विज़ार्ड ( Wizard ) का चलाने के लिए चुन सकते हैं ।
यदि कोई प्रोग्राम स्वचालित ( Automatically ) रूप से इंस्टालेशन ( Installation ) शुरू नहीं करता है , तो प्रोग्राम के साथ आने वाली जानकारी ( Information ) देख । यह जानकारी प्रोग्राम को मैन्युअल ( Manual ) रूप से इनस्टॉल करने के लिए निर्देश प्रदान करेगी । यदि आप इस जानकारी का उपयोग नहीं कर सकते हैं , तो आप डिस्क ( Disk ) के माध्यम से भी ब्राउज़ ( Browse ) कर सकते हैं और प्रोग्रामसेटअप फ़ाइल ( Program Setup File ) खोल सकते हैं , जिसे आमतौर पर Setup . exe या Install . exe कहा जाता है ।
यदि इंस्टॉल ( Install ) स्वचालित ( Automatically ) रूप से प्रारंभ ( Start ) नहीं होता है , तोखोज में अपनी ऑटोप्ले सेटिंग्स ( Auto play Settings ) को जांचें , ऑटोप्ले सेटिंग्स ( Auto play Settings ) दर्ज ( Enter ) करें और ऑटोप्ले सेटिंग्स चुनें । सुनिश्चित ( Confirm ) करें कि ऑटोप्ले चालू ( ON ) है
आप रिमूवेबल ड्राइव ( Removable Drive ) और मेमोरी कार्ड ( Memory card ) के लिए डिफ़ॉल्ट ( Default ) एक्शन ( Actions ) भी चुन सकते हैं ।
15.3.2 इंटरनेट से इनस्टॉल करना ( Installing from Internet )
आपको केवल विश्वसनीय प्रकाशकों ( Trusted Publisher ) और खुदरा वेबसाइटों ( Retail Website ) से ही प्रोग्राम डाउनलोड ( Download ) और इंस्टॉल ( Install ) करना चाहिए ।
> अपने वेब ब्राउज़र ( Web browser ) में प्रोग्राम का लिंक ( Link ) चुनें ।
> कार्यक्रम को डाउनलोड ( Download ) करने के लिए सेव ( Save ) यासेव एस ( Save As ) चुनें ।
> अधिकांश एंटीवायरस प्रोग्राम्स ( Antivirus Programs ) जैसे विंडोज डिफेंडर ( Windows Defender ) डाउनलोड के दौरान वायरस के लिए प्रोग्रामस्कैन ( Scan ) करेगा ।
> कार्यक्रम को तत्काल इनस्टॉल ( Instantly Install ) करने के लिए , “ Open " या " Run " पर क्लिक करें , और फिर अपनी स्क्रीन ( Screen ) पर दिए गए निर्देशों का पालन करें । यदि आपको एक व्यवस्थापक पासवर्ड ( Administrator Password ) या पुष्टिकरण ( Confirmation ) के लिए संकेत ( Instructions ) दिया जाता है , तो पासवर्ड टाइप करया पुष्टिकरण ( Confirmation ) प्रदान करें ।
> प्रोग्राम को बाद में इनस्टॉल करने के लिए , सेव ( Save ) पर क्लिक करें , और उसके बाद इंस्टालेशन फ़ाइल ( Installation file ) को अपने कंप्यूटर पर डाउनलोड ( Download ) करे । जब आप प्रोग्राम इंस्टाल ( Install ) करने के लिए तैयार हों , तोफ़ाइल को डबल - क्लिक ( Double Click ) करें , और फिर अपनी स्क्रीन ( Screen ) पर दिए गए निर्देशो ( Instruction ) का पालन करें । यह एक सुरक्षित विकल्प ( Safer option ) है क्योंकि आप आगे बढ़ने से पहले वायरस ( Virus ) के लिए इंस्टालेशन फ़ाइलस्कैन ( Installation File Scan ) कर सकते हैं । विंडोज केसाथ काम करने के लिए डिज़ाइन ( Design ) किए गए प्रोग्राम आमतौर ( Usually ) पर बहुत आसान ( Easy ) और व्यवस्थित ( Methodical ) होते हैं
15.3.3 विंडोज स्टोर से इंस्टालेशन ( Installing from Windows Srore )
विंडोज स्टोर के माध्यम से प्रोग्राम या एप्लिकेशन को स्थापित ( Install ) करने के लिए , टास्कबार ( Taskbar ) या स्टार्ट मेनू ( Start Menu ) पर स्टोर टाइल ( Store Tile ) ( जो शॉपिंग बैग की तरह दिखता है ) का उपयोग कर स्टोर पर जाएं । आवश्यक प्रोग्राम की खोज ( Search ) करें और इंस्टॉल ( Install ) करें ।
15.3.4 एक कार्यक्रम की इंस्टालशन प्राक्रया ( Installation Process of a Program )
विंडोजके साथ काम करने के लिए डिजाइन किए गए प्राग्राम आमतौर पर बहुत आसान और व्यवस्थित ( Methodical ) हैं । सॉफ्टवेयर के रूप में इनस्टॉल करने में वीएलसी मीडिया प्लेयर ( VLC Media Player ) का उदाहरण हम यहाँ देखेंगे ।

15.3.5 एक कार्यक्रम की अइंस्टालशन प्राक्रया ( Un-Installation Process of a Program )
  1. स्टार्ट मेनू (Start menu ) खोले। 
  2. सेटिंग (Setting ) पर क्लिक करें।
  3. सेटिंग (Setting menu ) मेनू पर सिस्टम ( System ) पर क्लिक करें।
  4. बाई फलक ( Left pane ) से ऐप्प्स और फीचर ( app & Features ) चुनें। सभी इंस्टोलल्ड ऐप्प्स ( Installed Apps ) की एक सूचि (List ) दाई फलक ( Right pane ) में दिखाई देती है।
  5. एक एप्प (App ) चुने  जिसे आप अनइंस्टॉल ( Uninstalled ) करना चाहते है।
  6. प्रकट (Appear ) होने वाले अनइंस्टाल ( Uninstall ) बटन पर क्लिक करें। अगर यह ग्रे ( Gray ) हो जाता है तो यह एक ऐसी सिस्टम अप्प ( System app ) है जिसे आप नहीं हटा ( Remove ) सकते।
  7. पुष्टि करने के लिए अनइंस्टाल पॉप-अप ( Uninstall pop-p button ) बटन पर क्लिक करें ( Click the to confirm ) . 
15.4 नेटवर्क प्रिंटर की स्थापना 
कंट्रोल पैनल प्रबंधक ( Control panel manager ) पर पहुंचने के लिए, Devices and printer पर क्लिक करें।
आपको अपने सभी प्रिंटर ( Printer ) और अन्य डिवाइस ( Other Device ) की सूचि दिखाई देगी जो नेटवर्क ( Network ) पर हो सकती है। दूसरा तरीका है स्टार्ट ( Start ) पर क्लिक करें तब सेटिंग ( Setting ) और फिर डिवाइस ( Device ) पर क्लिक करें।
15.4.1 विंडोज़ 10 में प्रिंटर जोड़ना ( Adding a Printer in Windows 10 )
अब विंडोज 10 में एक प्रिंटर जोड़ने ( Add ) के लिए वास्तविक कदम ( Actual Steps ) उठाते है । पहले आपको अपने प्रिंटर को वायरलेस ( Wireless ) नेटवर्कया वायर्ड ( Wired ) नेटवर्क से कनेक्ट ( Connect ) करना होगा । जब तक आप का राउटर ( Router ) आईपी एड्रेस ( IP Address ) को स्वचालित ( Automatically ) रूपस DHCP का उपयोग कर रहा है , तब तक आपके प्रिंटर को नेटवर्क से जुड़ा रहना बहुत ही सरल होना चाहिए । प्रिंटर कनेक्ट ( Connected ) हो जाने के बाद , आगे बढ़ो और अपने पीसीपर Device and Printer डायलॉग में " Add a Printer ) " पर क्लिक करें । अब , अगर प्रिंटर ON तथा कनेक्टेड ( Connected ) हैं तो यह जादुई रूप ( Magical Form ) से कार्य करने लगेगा और नेटवर्क पर पहले से जो प्रिंटर नहीं जोड़ा गया है वह सूची में दिखाई देना चाहिए । यदि वे दिखाई नहीं देते हैं , तो आपको समस्या निवारण ( Troubleshoot ) के लिए नीचे दिए गए " The
Printer that I want isn ' t listed " लिंक पर क्लिक करना चाहिए । सामान्य समस्याओं ( Common Problem ) को सुलझाने ( Resolve ) के बारे में और अधिक पढ़ने के लिए विंडोज़ 10 सेक्शन ( Section ) में प्रिंटर इनस्टॉल करने के लिए ट्रबल शूट ( Troubleshoot ) करें।
यदि सब कुछ टिक है तो उस प्रिंटर पर क्लिक करें जिसे आप इंस्टॉल ( Install ) करना चाहते है और फिर नेक्स्ट (Next ) पर क्लिक करें।
विंडोज सिस्टम ( System ) पर उपयुक्त प्रिंटर ड्राइवरो ( Appropriate Printer Drivers ) को इनस्टॉल करके स्वत ( Automatically ) ही प्रिंटर को सेटअप ( Set - up ) करेगा । यदि उपलब्ध है , तो वह प्रिंटर से ही ड्राइवरों ( Drivers ) को डाउनलोड करगा । ।

15.5 अपने ई - मेल के साथ माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक को कॉन्फ़िगर करना ( Configuring Microsoft Outlook with your E - Mail )
माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक ( Microsoft Outlook ) माइक्रोसॉफ्ट का एक व्यक्तिगत सूचना प्रबंधक ( Personal Information Manager ) है , जाकि माइक्रोसॉफ्ट आफिस सुइट ( Microsoft Office Suit ) के एक भाग ( Part ) के रूप में उपलब्ध है । हालांकि मुख्यतः एक ईमेल एप्लिकेशन ( E - Mail Application ) के रूप में इस्तेमाल किया जाता है , इसमें कैलेंडर ( Calendar ) , कार्य प्रबंधक ( Task Manager ) , कांटेक्ट मैनेजर ( Contact Manager ) , नोट लेने ( Note taking ) , पत्रिका ( Journal ) , और वेब ब्राउजिंग ( Web browsing ) भी शामिल है ।
15.5.1 ई - मेल अकाउंट जोड़ें / कॉन्फ़िगर करें ( Add / Configure an E - Mail Account )
इससे पहले कि आप Outlook 2010 का उपयोग कर ई - मेल संदेश भेज ( Send और प्राप्त ( Receive ) कर सके , आपको इ - मलखात ( Email Account ) का जाड़ना ( Add ) और कॉन्फ़िगर ( Configure ) करना होगा । यदि आपने उसी कंप्यूटर पर माइक्रोसॉफ्ट आउटलुककएक पुरानसस्करण ( Earlier Version ) का इस्तेमाल किया है . जहां आपने Outlook 2010 स्थापित किया है तो आपके खाते की सेटिंग स्वचालित ( Automatically ) रूप से आयात ( Import ) की जाती है ।
ईमेल खातों के बारे में ( About email accounts ) 
आउटलुक माइक्रोसॉफ्ट एक्सचेंज ( Microsoft Exchange ) , पीओपी 3 ( POP3 ) , और आईएमएपी ( IMAP ) खातों का समर्थन ( Support ) करता है । आपका इंटरनेट सेवा प्रदाता ( आईएसपी ( ISP } ) या ईमेल प्रशासक ( Email Administrator ) आपको आवश्यक कॉन्फ़िगरेशन ( Configuration ) कीजानकारी दे सकता है जिसे आपकोOutlook में अपना ईमेलखातासेट ( Set ) करना होगा । ईमेलखाते ( E - Mail Accounts ) एक प्रोफ़ाइल ( Profile ) में शामिल किये जाते हैं । एक प्रोफ़ाइल - खाता ( Accounts ) , डेटा फ़ाइलों ( Data Files ) और सेटिंग्स ( Settings ) से बनी हई है जो निदिष्ट ( Specity ) करताहाक आपकाइमल सदश कहा सहजा ( Saved ) गया है । जब आप पहली बार आउटलुक चलाते हैं तो एक नया प्रोफाइलस्वतः निर्मित ( Self - Created ) होता है ।
15.5.1.1 जब आप पहली बार Outlook 2010 को प्रारंभ करते हैं तो एक ईमेल खाता जोड़ें ( Add am email account when you first start Outlook 2010 )
यदि आप आउटलुक में नए हैं या नए कंप्यूटर पर आउटलुक 2010 इनस्टॉल ( Install ) कर रहे हैं तो ऑटो खाता सेटअप ( Auto Account Setup ) सुविधा स्वचालित ( Automatically ) रूप से शुरू होती है और आपके ईमेल अकाउंट के लिए अकाउंट सेटिंग्स ( Account Settings ) को कॉन्फ़िगर ( Configure ) करने में आपकी मदद करती है । इस सेटअप के लिए केवल आपका नाम ( Name ) , ईमेल एड्रेस ( Email Address ) और पासवर्ड ( Password ) आवश्यक है । यदि आपका ईमेलखातास्वतः कॉन्फ़िगर ( Auto Configure ) नहीं किया जा सकता है , तो आपको आवश्यक अतिरिक्त जानकारी मैन्युअल ( Manual ) रूप से दर्ज करनी होगी ।

Outlook प्रारंभ करें । जब आपको ईमेल खाता कॉन्फ़िगर ( Configure ) करने हेतु निर्देश प्राप्त होना शुरू हो जाए , तो नेक्स्ट ( Next ) क्लिक करें ।
एक ईमेल खाता जोड़ने ( Add ) के लिए "yes" पर क्लिक करें और फिर :Next" पर क्लिक करें अपना नाम, ईमेल, पता, और पासवर्ड, दर्ज करे और फिर "Next" पर क्लिक करें।
आपका अकाउंट कॉन्फ़िगर होने के दौरान एक प्रगति सूचक ( Progress Indicator ) दिखाई देता है सेटअप पक्रिया ( Process ) में कई मिनट लग सकते है।
अकाउंट को सफलतापूर्वक ( Successfully ) जोड़ दिए  के बाद, आप  खाते भी "Ad more account" पर क्लिक करके जोड़ सकते हैं
Add New Account Dialog Box से बाहर निकलने के लिए , " Finish " पर क्लिक करें ।
15.5.1.2 मुख्य खाते के अतिरिक्त एक निजी जीमेल खाते को जोड़ने के लिए ( To add a personal Gmail account in addition to main account )
आप आसानी से अपने जीमेल ( Gmail ) खाते को पीओपी ( POP - पोस्ट ऑफिस प्रोटोकॉल ) का इस्तेमाल करके आउटलुक 2010 में कैसे जोड़ सकते हैं । यह निचे दिखाया गया है ।
पहला कदम ( First Step )
अपने जीमेल खाते में लोगिन ( Log In ) करें और अपने सेटिंग्स ( Setting ) पेज पर जाएं । अग्रेषण ( Forwarding ) और POP / IMAP टैब ( Tab ) के तहत सुनिश्चित ( Make sure ) करें कि POP एक्सेस ( Access ) इनेबल ( Enabled ) है । आप अब से आने वाले सभी नए मेल के लिए , या अपने जीमेल अकाउंट में सभी मेल के लिए POP Access को सक्षम ( Enable ) करने के लिए चुन सकते हैं । दूसरे विकल्प ( Second Option ) पर हम सुझाव ( Suggesstion ) देते हैं कि आप " Keep Gmail ' s Copy in the Inbox " में रखने का विकल्प का चुनाव करे ताकि आप जीमल सर्वर ( Gmail server ) पर अपने ईमेल को देख सके तथा उन तक पहुंच सके ।
दूसरा कदम ( Second Step )
आउटलुक में , " Add Account " सेक्शन ( Section ) के अंतर्गत ( Under ) , ( मैन्युअल कॉन्फ़िगरेशन चुनें ) मैन्युअल ( Manual ) रूप से अपना यूजरनेम , इमलएड्रेस और लोग इन जानकारी प्रविष्ट ( Enter ) करें । " Server Information " के अंतर्गत निम्नदर्ज करे :
  • खाता प्रकार ( Account type ) : पीओपी 3 ( POP3 )
  • इनकमिंग मेल सर्वर ( Incoming Mail Server ) : pop . gmail . com
  • आउटगोइंग मेल सर्वर ( Outgoing mail server ) : smtp . gmail . com 
" Remember Password " को चिह्नित ( Checked ) करना सुनिश्चित ( Make sure ) करें ताकि आपको हर बार इसे दर्जन करें ।
तीसरा चरण ( Third Step )
  • डेटा के दर्ज ( Entered ) होने के बाद , मोर सेटिंग्स ( More Settings ) बटन पर क्लिक करें
  • " Outgoing Server " टैब का चयन करें , और " My outgoing server ( SMTP ) requires authentication " को चिह्नित करें तथा इसके साथ ही " Use same setting as my incoming mail server " काभाचिान्हत ( Checked ) होना सुनिश्चित कर लें
चौथा चरण ( Fourth Step )
अब " Advanced " टैब ( Tab ) का चयन ( Select ) करें और निम्नजानकारी प्रविष्ट ( Enter ) करें : 
  • इनकमिंगसर्वर ( Incoming Server POP3 ) : 995
  • आउटगोइंगसर्वर ( Outgoing Server - SMTP ) : 587
  • ( This server requires an encrypted connection ( SSL ) ) को चिन्हित ( Checked ) करे ।
  • Following Type of Encrypted connection " को " TLS " सेट करें ।
पांच वें चरण ( Fifth Step )
  • विंडो ( Window ) को बंद करने के लिए ओके ( OK ) क्लिक करें , और फिर अकाउंट ( Account ) सेट अप ( Set Up ) करने के लिए Next क्लिक करें । आउटलुक ( Outlook ) यह सुनिश्चित ( Make Sure ) करने के लिए आपके अकाउंट सेटिंग ( Account Setting ) का परीक्षण ( Testing ) करेगा कि सब कुछ ठीक से काम कर रहा है या नहीं , यह समाप्त होने पर " Close " पर क्लिक करें ।
  • जीमेल ( Gmail ) आउटलुक 2010 के साथ सिंक करने के लिए तैयार हो जायेगा | आउटलुक में अपने जीमेल खाते का आनंद लें , तेजी से । अनक्रमित खोज ( Indexed searching ) , वार्तालापव्यू ( Conversation view ) और अन्य सुविधाओं ( More ) केसाथ पूरा करें । ।
15.5.2 लेखन और मेल भेजना ( Composing & Sending Mail )
आउटलुक 2010 आपको एक या अधिक प्राप्तकर्ताओं ( Recipients ) के साथ संचार ( Communicate ) और सुविधाओं ( Features ) के एक समृद्ध सट ( Rich Set ) के साथ संवाद करने में सक्षम बनाता है । मेल में , होम टेब ( Home Tab ) पर , नया समूह ( New Group ) में , नया ई - मेल ( New E Mail ) पर क्लिक करें :
> की बोर्ड शार्टकट ( Keyboard Shortcut ) - एक ई - मेल संदेश बनाने के लिए : CTRL + SHIFT + M दबाएं
> सब्जेक्ट बॉक्स ( Subject Box ) में , संदेश का विषय लिखें ।
> प्रति ( To ) , सीसी ( Ce ) , या बीसीसी ( Bcc ) बॉक्स प्राप्तकर्ता ( Recipients ) के ईमेल पते या नाम दर्ज करें । अर्धविराम ( Semicolon ) के साथ एकाधिक प्राप्तकर्ताओं ( Recipients ) को अलग करें ।
> एड्रेस बुक ( Address Book ) में एक सूची से प्राप्तकर्ता ( Recipient ) के नाम का चयन करने के लिए . प्रति ( To ) , सीसी ( CC ) , या बीसीसी ( Bec ) पर क्लिक करें , और उसके बाद आप जो नाम चाहते हैं उसे क्लिक करें ।
> आपके द्वारा संदेश बनाने ( Composed the message ) के पश्चात् , भेजें ( Send ) पर क्लिक करें ।
15.5.3 ईमेल संदेश को उत्तर देंया अग्रेषित करें ( Reply to or forward an email message )
जब आप किसी ईमेल संदेश का उत्तर ( Reply ) देते है , तो मूल मैसेज ( Original message ) के प्रेषक को मैसेज में स्वतः ( Automatically ) जोड़ दिया जाता है । इसी तरह , जब आप उत्तर दे सभी ( Reply All ) का उपयोग करते हैं , तो एक संदेश प्रेषित ( Created ) और मूल संदेश के किसी भी अतिरिक्त प्राप्तकर्ता ( Additional Recipient ) को बनाया और संबोधित किया जाता है ।
जो भी आप चुनते हैं , आप प्राप्तकर्ता ( Recipient ) को प्रति ( To ) , सीसी ( CE ) , और बीसीसी ( Bee ) बॉक्स में बदल सकते हैं । जब आप कोई संदेश अग्रेषित ( Forward ) करते है . तो , प्रति , सीसी , और बीसीसी बॉक्स खाली है और आपको कम से कम एक प्रारकर्ता ( Receiver ) दर्ज करना होगा ।
प्रेषक वा अन्य प्राप्तकर्ताओं को उत्तर दें ( Reply to the Sender or other Recipients )
आप केवल एक संदेश के प्रेषक ( Sender ) , या उन लोगों के किसी भी संयोजन ( Combination ) का उत्तर दे सकते हैं जो To और Cc लाइनों पर दिखाई देते हैं । आप नए प्राप्तकर्ता ( Recipient ) भी जोड़ सकते हैं । प्रतिसाद ( Respond ) समूह में होम ( Home ) या मेसेज टैब ( Message Tab ) पर , " Reply " , " Reply to All " , या " Forward " क्लिक करें । ।
Toऔर CC लाइनों के नामको हटाने के लिए नाम पर क्लिक करें और फिर DELETE दबाएं । प्राप्तकर्ता ( Recipient ) जोड़ने के लिए , TO , Cc या Bce बॉक्स में क्लिक करें और प्राप्तकर्ता को दर्ज ( Enter ) करें । अपना संदेश लिखें और Send पर क्लिक करें
> Cc कार्बन कापी ( Carbon Copy ) के लिए लघुकथ ( Shorthand ) है यदि आपOutlook E - Mail Message में इस बॉक्स में प्राप्तकर्ता को जोड़ते हैं , तो संदेश की एक प्रति उस प्राप्तकर्ता को भेजी जाती है , और प्राप्तकर्ताकानामसंदेश के अन्य प्राप्तकर्ताओं को दिखाई देता है ।
> ब्लाइंड कार्बन कॉपी ( Blind Carbon Copy ) के लिए बीसीसी ( Bec ) लघुकथ ( Shorthand ) है यदि आप एक ईमेल संदेश में इस बॉक्स में प्राप्तकर्ता को जोड़ते हैं , तो उस प्राप्तकर्ता को संदेश की एक प्रति भेजी जाती है , और प्राप्तकर्ता का नाम संदेश के अन्य प्राप्तकर्ताओं को दिखाई नहीं
15.6 एक फाइल / फ़ोल्डर को छुपाएँ , छुपी हुई फ़ाइलें देखें ( Hide File / Folder , See Hidden files )
विंडोज , डिफ़ॉल्ट ( Default ) रूप से कई फाइलों और फ़ोल्डरों को छुपाता ( Hides ) है ताकि उपयोगकर्ताओं ( User ) को उन फ़ाइलों को हटाने या संशोधित ( Modifying ) करने से रोका जा सके जिन्हें उन्हें उपयोग ( Touch ) नहीं करना चाहिए । लेकिन आप Windows को एक सेटिंग ( Single Setting ) बदलकर इन छिपी हुई फाइलों को दिखाने का निर्देश दे सकते है 

किसी भी फ़ाइल / फोल्डर ( File / Folder ) को छिपाने ( Hide ) के लिए , उसे Right क्लिक करें , " Properties " चुनें , और " Hidden " विशेषता ( Feature ) को चालू ( ON ) याबंद ( OFF ) कर दें ।
विंडोज 10 फाइल एक्सप्लोरर रिबन ( File Explorer Ribbon ) पर , फ़ाइलों और फ़ोल्डरों को छुपी हुई ( Hidden ) या दृश्यमान ( Visible ) बनाने के लिए " Hide Selected items " बटन पर क्लिक करें । छुपी हुई फ़ाइलें देखना ( Viewing Hidden Files ) : फ़ाइल एक्सप्लोरर ( File Explorer ) के रिबन ( Ribbon ) पर " View " टैब ( Tab ) पर क्लिक करें और शो / हाईड अनुभाग ( Show / Hide section ) में " Hidden items " चेकबॉक्स ( CheckBox ) पर क्लिक करें । फ़ाइल एक्सप्लोरर ( File Explorer ) तरंत छिपी हुई फ़ाइले ( Hidden Files ) दिखाएगाऔर जब तक आप इसे बदलते नहीं तब तक यह सेटिंग ( Setting ) याद रखेगी ।
15.7 पासवर्ड के साथ फाइल / फाल्डरलाककरना ( Locking a File / Folder with a password )
Windows 10 में किसीफाइल / फ़ोल्डर ( File / Folder ) कोलॉक ( Lock ) करने के लिए आपको एक एप्लिकेशन ( Application ) की आवश्यकता है । | फोल्डर लॉक ( Folder lock ) एक ऐसा ही बढ़िया सुरक्षा एप ( Great Security App ) है जो आपको फाइलों , फोल्डर्स और ड्राइव ( Drive ) को पासवई - संरक्षित ( Password protect ) करने की सुविधा देता है ; अपनी महत्वपूर्ण फाइलों को ऑन - द - फ्लाई ( On the Fly ) , बैकअप ( Backup ) फाइलों को वास्तविक समय ( Real Time ) में एन्क्रिप्ट ( Encrypt ) , पोर्टेबल ड्राइव्स की रक्षा ( Protect Portable Drives ) , श्रेड फाइले ( Shred Files ) और ड्राइव ( Drives ) और हिस्ट्री क्लीन ( Clean history ) कर सकते है ।
यूएसबी फ्लैश ड्राइव्स मेमोरी स्टिक्स ( USB Flash Drives Memory Sticks ) , सीडी - आरडब्ल्यू ( CD - RW ) , फ्लॉपीज़ ( Floppies ) और नोटबुक ( Notebook ) पर भी फाइलें सुरक्षित ( Protect ) हो सकती है । किसी भी सॉफ्टवेयर को इनस्टॉल करने की आवश्यकता के बिना भी जब फ़ाइलों को रिमूवेबल डिस्क ( Removable Disk ) पर एक पीसी ( PC ) से दूसरे में ले जाया जाता है टेब भी प्रोटेक्शन ( Protection ) काम करता है फ़ोल्डर लॉक विंडोज ( Folder Lock Windows ) , डॉस ( DOS ) और यहां तक कि सुरक्षित मोड ( Safe Mode ) में फ़ाइलों को Lock करता है । 
फ़ोल्डरों ( Folders ) को लॉक ( Lock ) करना आरंभ ( Start ) करने के लिए नीचे दिए गए निर्देशों का पालन करें :
एक बार जब आप " Lock Files " मेनू ( Menu ) में हों , तो आप अपनी लॉक फाइल / फाइलों की सूची देखने में सक्षम होंगे । यदि आप पहली बार इस सुविधा का उपयोग कर रहे हैं , तो यह सूची खाली ( Empty ) होगी ।
फाइल को लॉक ( Lock ) करना आरंभ ( Start ) करने के लिए , " Ada " बरन को प्रकट होने की अनुमति ( Permission ) मिलेगी , जहां से इसके अलावा , आपलॉक के एक वैकल्पिक ( A ) खींच ( Drag ) और ड्राप ( Drop ) भी कर सकते हैं । । करने के लिए . " Add " बटन पर क्लिक करें , ऐसा करने से एक ड्रॉप डाउन मेन्यू ( Drop Down Menu ) mission ) मिलेगी , जहां से आप उन फ़ोल्डर को जोड़ना शुरू कर सकते हैं , जिन्हें आप लॉक ( Lock ) करना चाहते हैं । के एक वैकल्पिक ( Alternative ) माध्यम के रूप में लोक फ़ाइल इंटरफ़ेस ( Lock File Interface ) पर किसी फ़ोल्डर को खिंच ( Drag ) और ड्राप ( Drop ) भी कर सकते है।

आपको ये RSCIT Book Lesson Notes In Hindi 2021 कैसे लगे। अगर आप RSCIT Book के Other Lessons के Notes पढ़ना चाहते हैं तो, हम RSCIT Book के सभी Lessons के नोट्स आपको प्रदान करेंगे।

क्या आप उस पेज पर जाना चाहेंगे जहां पर RSCIT के सभी Lessons के Notes की लिस्ट दी गई है, यहां क्लिक करें 👉 RSCIT Chapter wise Notes

हम आशा करते हैं की आप इस नोट्स को अपने RSCIT Friends के साथ जरूर शेयर करेंगे।

क्या आपको RSCIT Exam Date के बारे में जानकारी चाहिए?- RSCIT Exam Date 2021
RSCIT Admit Card की तलाश कर रहे है?- RSCIT Admit Card 2021
RSCIT Answer Key Download करने के लिए- RSCIT Answer Key 2021
आरएससीआईटी का रिजल्ट देखिए- RSCIT Result in Hindi

iLearnRSCIT.com ही वह वेबसाइट है जो RSCIT विद्यार्थियों के लिए सबसे बहतरीन हैं। यहाँ वो सब आपको मिलेगा जिसके कारण आप आपने RSCIT Exam में अच्छे नंबर ला सकते है।

Rscit Book Lesson | Rscit Book Lesson Notes | Rscit Book Lesson Notes Number 15 | Rscit Book Lesson Notes Number 15 In Hindi | Notes Of Rscit Book In Hindi | Rkcl New Book Notes In Hindi Lesson 15 | Rscit New Book Notes In Hindi Lesson | Notes Of Rscit Book Lesson 15 | Download Rscit Notes | Rscit Book Notes In Hindi Pdf | Lesson -15.